Press "Enter" to skip to content

कैट के कड़े विरोध को देखते हुए वीवो ने आईपीएल से अपना हाथ खींचा

  • बीसीसीआई को अन्य चीनी कंपनियों को आईपीएल के प्रायोजक के रूप में हटा देना चाहिए
  • ओलंपिक और विंबलडन की तरह आईपीएल को भी रद्द किया जाना चाहिए

कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट ) ने चीनी कंपनी वीवो द्वारा इंडियन प्रीमियर लीग 2020 के टाइटल स्पॉन्सरशिप से अपना हाथ खींच लेने के संदर्भ में कन्फ़ेडरेशन ऑफ़ ऑल इंडिया ट्रेडर्ज़ (कैट) द्वारा चीनी कंपनी के खिलाफ एक मज़बूत दबाव और प्रतिरोध के कारण ही वीवो को यह फ़ैसला करने पर मजबूर होना पड़ा ।

कैट के राष्ट्रीय महामंत्री श्री प्रवीन खंडेलवाल ने कहा कि भले ही हमें उम्मीद थी कि बीसीसीआई फैसला लेकर वीवो को स्पान्सर्शिप से हटा देगी, लेकिन बीसीसीआई वास्तव में पैसे के लिए अपनी भूख को नहीं छोड़ सकती है और इसलिए कैट द्वारा इस कार्यक्रम के बहिष्कार और आईपीएल के लिए अनुमति न देने के लिए केन्द्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह और विदेश मंत्री श्री जयशंकर को पत्र भेजना पड़ा ।कैट ने 10 जून से पूरे देश में चीन के सामान के बहिष्कार का राष्ट्रीय अभियान चला रखा है जिसको देश। हर से ज़बरदस्त समर्थन मिल रहा है ।

श्री खंडेलवाल ने दृढ़ता से मांग की है कि बीसीसीआई को किसी भी तरह से आईपीएल या बीसीसीआई से जुड़ी सभी चीनी कंपनियों के प्रायोजन को रद्द करना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि कोविड के कारण ओलंपिक और विंबलडन जैसे खेल के बड़े आयोजन रद्द हो गए हैं और इसी तर्ज पर आईपीएल को भी रद्द कर दिया जाना चाहिए। महामारी की स्थिति के तहत इस साल आईपीएल आयोजित करने की कोई आवश्यकता नहीं है